*जिला पुलिस मुंगेली एवं महिला बाल विकास मुंगेली के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया गया अंतराष्ट्रीय महिला विरूद्ध हिंसा उन्मूलन हेतु जागरूकता कार्यक्रम*

0
65

*⬛ प्रतिवर्ष 25 नवम्बर को मनाये जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय महिला विरूद्ध हिंसा उन्मूलन दिवस एवं 10 दिसम्बर को मनाये जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस के मध्य 16 दिवस की अवधि में चलाया जाना है विशेष जागरूकता अभियान।*
*⬛महिलाओं के विरूद्ध हो रहे हिंसा को समाप्त करने जागरूकता लाने एवं जेंडर भेद को समाप्त करना, महिलाओं से संबंधित योजनाओं के प्रति जागरूकता लाना है मुख्य उद्येश्य।*

 

मुंगेली,,महिला एवं बाल विकास विभाग छत्तीसगढ के निर्देशानुसार महिलाओं के विरूद्ध हो रहे सभी प्रकार के हिंसा को समाप्त करने हेतु जिला पुलिस एवं महिला बाल विकास विभाग को संयुक्त रूप से दिनांक 25 नवम्बर से 10 दिसम्बर तक कार्यक्रम आयोजन के संबंध में निर्देश प्राप्त हुए हैं। जिसका मुख्य उद्येश्य महिलाओं

के विरूद्ध हो रहे हिंसा को समाप्त करने हेतु नागरिकों के संवाद स्थापित कर जागरूकता लाना, जेंडर भेद को समाप्त करना है। जिसके परिपालन में दिनांक 01.12.2022 को कलेक्टर कार्यालय के जनदर्शन कक्ष में जिला पुलिस मुंगेली एवं महिला बाल विकास विभाग मुंगेली के द्वारा संयुक्त रूप से महिलाओं के विरूद्ध हिंसा के उन्मूलन हेतु कार्यक्रम का आयोजन किया गया।


इस अवसर पर श्री मयंक सोनी, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, श्री सूरज सिंह जिला अभियोजन अधिकारी, श्रीमती माधुरी धिरही, उप पुलिस अधीक्षक लोरमी, श्रीमती विभा मसीह पर्यवेक्षक महिला बाल विकास मुंगेली आम नागरिकों एवं डी.एड. में अध्ययनरत् बच्चों तथा स्कूली बच्चें सम्मिलित हुए। कार्यक्रम की रूप रेखा महिला बाल विकास विभाग मुंगेली के द्वारा प्रस्तुत

की गई, जिसमें महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अत्याचार के प्रति जागरूकता लाने, लैंगिक भेद को समाप्त करने के बारे में बताया गया। श्री मयंक सोनी, सचिव विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा पॉक्सो एक्ट, पीड़ित क्षतिपूर्ति, राहत राशि, महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अत्याचार से बचाव, महिलाओं एवं बच्चों से संबधित कानूनों एवं अधिकारों की जानकारी दी। श्री सूरज सिंह, जिला अभियोजन अधिकारी मुंगेली द्वारा महिलाओं एवं बच्चों से संबंधित कानूनों एवं अधिकारों की जानकारी दी। श्रीमती माधुरी धिरही, उप पुलिस अधीक्षक लोरमी ने महिलओं एवं

बालिकाओं की सुरक्षा के लिये बनाये गये अभिव्यक्ति एप की जानकारी देकर डाउनलोड एवं रजिस्ट्रेशन कराया गया। जिसके माध्यम से महिलओं एवं बालिकाओं को बिना थाना गये शिकायत करने की सुविधा प्राप्त होती है एवं शिकायत निवारण की स्थिति का भी ऑनलाईन अवलोकन किया जा सकता है, साथ ही महिला संबंधी अपराधों के संबंध में जानकारी दी।
इस अवसर पर बच्चों के लिये वाद-विवाद प्रतियोगिता एवं रंगोली प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया, जिसमें उत्कृष्ठ प्रर्दशन करने हो किया गया।

Previous article*पदयात्रा आज अंतिम दिन पहुंची गिरौदपुरी धाम जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष पंकज शर्मा ने प्रदेश के लोगों की खुशहाली के लिए की कामना*
Next article*गीता जयंती पर 3 दिसम्बर को रतनपुर में कार्यक्रम*

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here